Zoom App ने अपनी सिक्यूरिटी को बढाने के लिए लाया टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन(2FA) का नया फीचर

वीडियो कॉन्फ्रेसिंग ऐप Zoom ने अपनी सिक्यूरिटी बढाने के लिए एक नया फीचर टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन (2FA) को लाया है, जिससे की यूजर्स के डेटा को सुरछित और ऐप की सिक्यूरिटी और भी अच्छी हो गई है। टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन को इनेबल करने के लिए सबसे पहले एडमिन को ज़ूम ऐप के डैशबोर्ड में साइन-इन करना होगा ।

साइन-इन करने के बाद नेविगेशन मेनू में आपको एडवांस आप्शन पर क्लिक करना है, एडवांस आप्शन में आपको सिक्यूरिटी के आप्शन में आपको टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन विकल्प को इनेबल करना होगा तब जाकर आपके ऐप में 2FA फीचर इनेबल हो जायेगा ।

2FA इनेबल करने के बाद, कोई भी संगठन का यूजर डाटा और सुरक्षा में एक और अतिरिक्त सिक्यूरिटी परत जुड़ जाती है जिससे डाटा चोरी होने के जोखिम को कम कर सकते हैं । जो लोग पासवर्ड का अनुमान लगाकर या यूजर्स के डिवाइस को हैक करके उनका अकाउंट चुरा लेते थे इस फीचर से यह करना काफी मुस्किल हो जायेगा । “ज़ूम ने कहा, छोटे व्यवसायों और स्कूलों के लिए, एसएसओ (सिंगल साइन-ओन) महंगा हो सकता है।”

कंपनी के अनुसार, ज़ूम 2FA उसेर्स को सिक्यूरिटी ब्रीचेस के खिलाफ एक फ्री और असरदार तरीका प्रदान करता है। ज़ूम के 2FA के साथ, उपयोगकर्ताओं के पास ऑथेंटिकेशन ऐप्स का उपयोग करने का विकल्प होता है जो टाइम-बेस्ड वन-टाइम पासवर्ड (TOTP) प्रोटोकॉल को सपोर्ट करते हैं, या जूम एकाउंट ऑथेंटिकेशन के लिए एसएमएस या फोन कॉल से एक कोड भेजता है ।

Leave a Reply